क्या लेखन के लिए चरस और शराब ज़रूरी है?

चार्ल्स बुकोव्स्की की ‘ऑन राइटिंग’ पर नीरज पांडेय का आलेख।