In Pictures : Last day last show at Rex Theatre, Bengaluru

“End of a 90 year-old affair in soft melancholy,” writes Bishweshwar.

Advertisements

शमशेर की ‘लौट आ ओ धार’ : बीते समय को दूर से देखने की कविता

“यह कविता अथवा काव्यभाषा ही है, जो मृत्यु से संघर्ष का दम रखती है,” सुधीर रंजन सिंह लिखते हैं।