केदारनाथ सिंह की कविता ‘हॉकर’: वर्ग की प्रेमिका कौन है?

“प्रेम अराजनैतिक भी हो सकता है क्या? यहाँ तक कि स्त्री-पुरुष संबंध राजनैतिक है, फिर किसी समाज व्यवस्था से प्रेम, एक बेहतर कल का सपना, एक बेहतर व्यवस्था की चाह, भुखमरी-बेरोजगारी से छुटकारा कैसे अराजनैतिक होगा?” आशु लिखते हैं।