कविता और समकालीनता

कविता और समकालीनता के प्रश्न पर सुधीर रंजन सिंह का आलेख।

Advertisements

‘मैं कितना कुछ हूँ, और कितना कुछ हो सकता हूँ’ : शिखर गोयल की कविताएँ

‘हर्फ़-ब-हर्फ़ तुम्हे देरतलक / हाथों से सहलाता हूँ / अपनी भाषा में / अक्सर मैं तुम्हें / अपने बहुत क़रीब पाता हूँ.’

பெங்களூரு சர்வதேச திரைப்பட விழா 2019

பல்வேறு நாட்டு படங்கள் திரையிடப்படுவதால் பெரிய திரையில் பல்வேறு நிலக்காட்சிகளையும் மனிதர்களையும் கண்டு அனுபவிப்பதன் மூலம் உலகை சுற்றி வரும் அனுபவம் கிளர்ச்சியுற செய்வது.

लखनऊ की बोली, अन्दाज़, गंगा-जमनी तहज़ीब, और सुख़नसाज़ी से जुड़े क़िस्सों की पोटली

हिमांशु बाजपेयी की किताब ‘क़िस्सा क़िस्सा लखनउवा’ पर कफ़ील जाफ़री का आलेख।